बुधवार, 4 सितंबर 2013

दुनिया



हर सुबह
दुनिया कदमों तले होती है
शाम होते होते
कमबख्‍त 
कंधों पर सवार हो जाती है ।
0 राजेश उत्‍साही

8 टिप्‍पणियां:

  1. और रात को फिर उसे उतार कर रख देते हैं हम ..एक और सुबह के इंतजार में..इसी को शायद कोल्हू का बैल होना कहते हैं

    उत्तर देंहटाएं

गुलमोहर के फूल आपको कैसे लगे आप बता रहे हैं न....

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails