सोमवार, 28 नवंबर 2011

आत्‍मविश्‍वास



एकलव्‍य में कार्यरत दीपाली शुक्‍ला ने हाल ही में कैमरा खरीदा है। और वे पिछले कुछ दिनों से फोटोग्राफी में हाथ आजमा रही हैं। वे कविताएं और कहानियां लिखती रहीं हैं। मुझे यह देखकर सुखद आश्‍चर्य हो रहा है कि उनकी उतारी तस्‍वीरें भी किसी कविता से कम नहीं हैं। पिछले दिनों भोपाल के मानव संग्रहालय का भ्रमण करते हुए उन्‍होंने कुछ तस्‍वीरें उतारीं। इन्‍हें उन्‍होंने फेसबुक पर सबके साथ साझा किया है। इनमें से दो तस्‍वीरों ने मुझे बेहद रोमांचित किया है। पहली आप ऊपर देख रहे हैं। इस तस्‍वीर को देखते हुए मेरे अंदर की कविता कुछ इस तरह बाहर आई। शुक्रिया दीपाली।

अब तक हमने
मिट्टी और गोबर से लिपी खिड़कियों से
झांककर बाहर
का खुला आसमान देखा था
देखा था अंधेरी कोठरियों की नन्‍हीं दरारों से
सूरज को उगते हुए

पर अभी अभी जाना है हमने कि
कितना अनोखा है
खुले आसमान के नीचे
खड़े होकर
देखना अपने अंतस को

हमारे होठों पर
यह मुस्‍कराहट  
उस आजादी की है
जो हमने पाई है अपने आपसे लड़कर

हमारी
इस आंकी बांकी नजर को
मत समझ लेना मासूमियत की अदा
बेशक लावण्‍य हममें कूट कूटकर भरा है
पर सहेजने के लिए उसे
हद दर्जे तक टूटना होता है अपने में
हर वर्जना से, हर दंभ से

और इस भ्रम में मत रहना कि
दमकता हुआ हमारा मुख
सूरज के प्रकाश से आलोकित है
चेहरे पर यह आभा
उस आत्‍मविश्‍वास की है
जिसे खोजा है हमने
अपने अंदर गहरे उतरकर ।

0 राजेश उत्‍साही
(29 नवम्‍बर,2011,बंगलौर)

30 टिप्‍पणियां:

  1. चेहरे पर यह चमक

    उस आत्‍मविश्‍वास की है

    जिसे खोजा है हमने ....


    बिल्‍कुल सही कहा है आपने इन पंक्तियों में ... आभार ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. कितना अनोखा है
    खुले आसमान के नीचे
    खड़े होकर
    देखना अपने अंतस को

    बहुत सुन्दर पंक्तियाँ ... खुले आसमां के नीचे अंतस को देखना .

    आत्मविश्वास से चेहरे पर उजास छा जाता है ... सुन्दर प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  3. बेहद सुंदर कविता। अगली कविता का इंतज़ार रहेगा।
    दीपाली

    उत्तर देंहटाएं
  4. आत्मविश्वास की आभा स्वंय छलकती है ना उसमे दंभ होता है ना गुरुर ………वो चमक सूरज से भी तेज़ होती है………………बहुत सुन्दर भाव संजोये है।

    उत्तर देंहटाएं
  5. अनोखा है खुले आसमां के नीचे खुद को देखना , जानना - यही आत्मविश्वास है

    उत्तर देंहटाएं
  6. कमलेश उप्रेती ने लिखा: "...बहुत सुन्दर , तस्वीर भी कविता भी"

    उत्तर देंहटाएं
  7. कल 30/11/2011 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्‍वागत है, थी - हूँ - रहूंगी ....

    उत्तर देंहटाएं
  8. आपकी इस रचना ने, इस चित्र को जीवंत बना दिया राजेश भाई !
    वैसे लाइट इफैक्ट, चित्र को खूबसूरती प्रदान में सफल रहा है !
    शुभकामनायें आपको !
    !

    उत्तर देंहटाएं
  9. प्रभावशाली कविता... आपने ठीक ही कहा है कि चित्र स्वयं कविता है...

    उत्तर देंहटाएं
  10. SOONDAR PRAYAS. @ UDAY TAMHANEY. BHOPAL.

    उत्तर देंहटाएं
  11. अगर फोटोग्राफी सीखने और कैमरे पर हाथ आजमाने का परिणाम यह है तो अंजाम की कल्पना से ही रोमांचित हो रहा हूँ मैं... और आपकी कविता ने तो तस्वीर को जीवंत कर दिया है!!!

    उत्तर देंहटाएं
  12. कह नहीं सकता कि कौन अधिक सुंदर है!... चित्र या कविता।

    उत्तर देंहटाएं
  13. Hello sir... maine apki kavita padhi..jis tasveer ko lekar apne kavita likhi hai uss mein se ek ladki main hi hoon... i don't have words to say... would really like to thank you heartily for giving a voice to this photograph..thank you so much :)

    उत्तर देंहटाएं
  14. @प्रिय अदिति तुम जैसी तस्‍वीर में दिखती हो वैसी हो भी। यह बात मैं तुम्‍हारे ब्‍लाग Happenings पर तुम्‍हारी पोस्‍ट पढ़ने के बाद कह रहा हूं। जो ऊर्जा तुम्‍हारी तस्‍वीर में नजर आती है वही तुम्‍हारे लेखन और सोच में भी है। इसे बनाए रखना। तुम्‍हारी एक और तस्‍वीर पर भी मैं कविता लिखने वाला हूं। उम्‍मीद है पसंद आएगी। शुभकामनाएं।

    उत्तर देंहटाएं
  15. आत्मविश्वास की आभा!
    वाह!
    सुन्दर चित्र से प्रेरित हो लिखी गयी सुन्दर कविता के लिए दीपाली जी, अदिति जी एवं राजेश जी को बधाई!

    उत्तर देंहटाएं
  16. सुंदर कविता चित्र भी बेहद खूबसूरत हैं !


    मेरी नई कविता "अनदेखे ख्वाब"

    उत्तर देंहटाएं
  17. कितना अनोखा है
    खुले आसमान के नीचे
    खड़े होकर
    देखना अपने अंतस को

    क्या बात है.... आदरणीय राजेश भाई जी.... वाह! बहुत सुंदरता के अभिव्यक्त हुये हैं जज्बात इस बहुमूल्य रचना में खूबसूरत छाया चित्र (आदरणीय दीपाली जी को सुन्दर छायांकन के लिये बधाई और शुभकामनाएं) को परिभाषित करते हुये...
    आपको सादर बधाई...

    उत्तर देंहटाएं
  18. बहुत सुन्दर भावपूर्ण रचना हार्दिक बधाई |
    आशा

    उत्तर देंहटाएं
  19. मुझे २०११ की वह रचना भेजिए , जो आपको बहुत पसंद हो ...

    --
    - सादर
    रश्मि प्रभा

    उत्तर देंहटाएं
  20. बहुत सच सच लिखा है आपने आभार

    उत्तर देंहटाएं
  21. बहुत सुन्दर ...गोबर की लीपी खिडकियों से .....यादें
    बेशक लावण्य हममे कूट कर भरा है .....बहुत सुन्दर सन्देश ......
    भ्रमर ५
    बाल झरोखा सत्यम की दुनिया

    उत्तर देंहटाएं
  22. सुन्दर प्रस्तुति | मेरे नए पोस्ट पर आपका इंतजार रहेगा । धन्यवाद ।

    उत्तर देंहटाएं
  23. कमाल की रचना । बहुत खूबसूरत । तस्वीरों से भी कही आगे ।

    उत्तर देंहटाएं

गुलमोहर के फूल आपको कैसे लगे आप बता रहे हैं न....

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails