शुक्रवार, 19 नवंबर 2010

गाता है छोकरा: तीन

                                             'हमकलम' में  इस कविता के लिए रेखांकन :कैरन हैडॉक

छोकरा
लिए रहता है
टुकड़े एसब्‍सटास की चादर के
दो-दो छोटे टुकड़े

फंसाकर
उंगलियों के बीच
बजाता है छोकरा
गाता है गीत
इकट्ठा करता है मजमा

मजमा
सुनता है
छोकरे के बचपन से
जवानी के गीत
और उसकी आने वाली जवानी को
बना देता है बुढ़ापा

छोकरा
गाता है रखकर कलेजा
गले में
दो सांप लहराते हैं
उसके गले में

छोकरे की आंख में
होता है
दो रोटियों का आकाश और
एक कप चाय का गहरा समुद्र

छोकरा
लिए रहता है
टुकड़े एसब्‍सटास की चादर के
दो छोटे-छोटे टुकड़े 
0 राजेश उत्‍साही 
(छोकरा एक और दो के लिए क्रमश: छोकरा:एक और छोकरा:दो पर क्लिक करें।)

43 टिप्‍पणियां:

  1. दो रोटी के लिए पता नहीं क्‍या-क्‍या करना पड़ता है। अच्‍छी रचना, बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  2. ये दो रोटियों का जुगाड ही सब कुछ करा लेता है………बेहद पैनी दृष्टि ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. राजेश जी

    आपकी इस लाजवाब रचना को पढ़ कर मुझे एक बहुत पुरानी फिल्म "काली टोपी लाल रुमाल" का एक गीत याद आ गया...शायद आपने सुना हो यदि सुना भी है तो फिर से सुनिए/पढ़िए...


    दीवाना आदमी को बनाती हैं रोटियाँ
    खुद नाचती हैं सबको नचाती हैं रोटियाँ

    बूढ़ा चलाए ठेले को फाकों से झूल के
    बच्चा उठाए बोझ खिलौनों को भूल के
    देखा न जाए जो-सो दिखाती हैं रोटियाँ
    दीवाना आदमी को ...

    कहता था इक फ़क़ीर कि रखना ज़रा नज़र
    रोटी को आदमी ही नहीं खाते बेख़बर
    अक्सर तो आदमी को खाती हैं रोटियाँ
    दीवाना आदमी को ...

    तुझको पते की बात बताऊँ मैं जान-ए-मन
    क्यूँ चाँद पर पहुँचने की इन्सां को है लगन
    इन्सां को चाँद में,नज़र आती हैं रोटियाँ
    दीवाना आदमी को ...

    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  4. हाँ यही दो रोटियां तो हैं, जो पता नहीं क्या क्या करवा लेती हैं. किसी के पास कुत्तों के लिए महंगे व्यंजन होते हैं और कहीं बच्चों के लिए दो रोटी जुटा नहीं पाते और फिर वही बच्चे दो रोटियां के लिए तमाशा बने तमाशा करते हैं .

    उत्तर देंहटाएं
  5. "chhokre ki aankh me hota hai do rotiyon ka aakash
    aur ek cup chai ka gahra samudra"
    rachnakar ki rachna yahin pahunchkar to sarthak ho pati hai.

    उत्तर देंहटाएं
  6. बाऊ जी,
    नमस्ते!
    पिछली बार जब मेरठ गया था, तो ट्रेन में इसी तरह दो छोटे-छोटे बच्चे पत्थर के टुकड़े की खनक और ढोलक की थाप पर पुराने फ़िल्मी गीत सुना रहे थे. मैंने उन्हें कुछ पैसे भी दिए. अब कुछ सही नहीं पता के वो इनाम था या दया थी...
    आप कभी-कभी परेशां कर देते हैं.
    आशीष

    उत्तर देंहटाएं
  7. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  8. एस्‍बेस्‍टस के दो टुकड़ों से दो रोटी तक जाती कविता,
    शब्‍दों के ताने-बाने से क्‍या कया हाल सुनाती कविता।

    आपकी छोकरा कवितायें जीवंत दृश्‍य प्रस्‍तुत कर रही हैं।
    बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  9. दो रोटियों की ही तो सारी बात है ..संवेदनशील रचना.

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत मार्मिक अभिव्यक्ति. छोकरा-३ पढ़ने ने सिरीज़ की बाकी दो कविताओं को पढ़ने को मजबूर कर दिया. तीनों कविताएँ कवि-हृदय का स्पर्श कराती हुईं. कविता की भूमिका भी पढ़कर मज़ा आया. बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  11. राजेश जी, बेहद भावपूर्ण ...जिंदगी है आदमी को कई रूप दिखलाती है अगर दुनिया में रहना है और पेट भरना है तो कुछ ना कुछ करना पड़ेगा कुछ ऐसे ही यहाँ चल रहा है...बड़ी संजीदगी से दुनिया का एक सच प्रस्तुत किया आपने..बढ़िया रचना के लिए आभार

    उत्तर देंहटाएं
  12. Asbustus ki tukro ke bich fanshi jindagi......
    badi pyari bimb dikhayee aapne!!

    उत्तर देंहटाएं
  13. bahut hi sundar rachna he man ko bhagai our chhokre me apne aap ko bhi pata hu kyoki kabhi kabhi roti ke liye me apne muliyo se hat kar bhi kaam karta hu par roti se badakar bhuke liye kya ho sakta he

    उत्तर देंहटाएं
  14. राजेश भाई आपकी "छोकरा" कविता अस्सी के दशक में जो देश में हिंदी कविता में आम आदमी की संवेदना का स्वर था वही मुखरित हो रहा है.. यह कविता आपको उस समय के अग्रणी जनवादी कवियों की कतार में ला खड़ा करती है.. कौन कहाँ है आज यह अलग बात है लेकिन आपकी कविता तो वहां की जरुर है.. मंगलेश डबराल जी की एक कविता आपके तीनो छोकराओं के लिए :

    गुमशुदा
    शहर के पेशाबघरों और अन्य लोकप्रिय जगहों में
    उन गुमशुदा लोगों की तलाश के पोस्टर
    अब भी चिपके दिखते हैं
    जो कई बरस पहले दस बारह साल की उम्र में
    बिना बताए घरों से निकले थे
    पोस्टरों के अनुसार उनका क़द मँझोला है
    रंग गोरा नहीं गेहुँआ या साँवला है
    हवाई चप्पल पहने हैं
    चेहरे पर किसी चोट का निशान है
    और उनकी माँएँ उनके बगै़र रोती रह्ती हैं
    पोस्टरों के अन्त में यह आश्वासन भी रहता है
    कि लापता की ख़बर देने वाले को मिलेगा
    यथासंभव उचित ईनाम

    तब भी वे किसी की पहचान में नहीं आते
    पोस्टरों में छपी धुँधँली तस्वीरों से
    उनका हुलिया नहीं मिलता
    उनकी शुरुआती उदासी पर
    अब तकलीफ़ें झेलने की ताब है
    शहर के मौसम के हिसाब से बदलते गए हैं उनके चेहरे
    कम खाते कम सोते कम बोलते
    लगातार अपने पते बदलते
    सरल और कठिन दिनों को एक जैसा बिताते
    अब वे एक दूसरी ही दुनिया में हैं
    कुछ कुतूहल के साथ
    अपनी गुमशुदगी के पोस्टर देखते हुए
    जिन्हें उनके माता पिता जब तब छ्पवाते रहते हैं
    जिनमें अब भी दस या बारह
    लिखी होती है उनकी उम्र ।

    उत्तर देंहटाएं
  15. नीले आकाश में गहराता दो रोटियों का स्‍वप्‍न उस छोकरे को देता है प्रेरणा जि़न्‍दगी में अपने हुनर से चंद पैसों को कमाने की।

    सुंदर कविता।

    दीपाली

    उत्तर देंहटाएं
  16. अक्सर बचपन में न जाने कितनी बार ऐसी छोकरों से मुलाक़ात होती है ... पर आपने उनके दर्द को जिया है इस रचना में ... बहुत खूब राजेश जी ...

    उत्तर देंहटाएं
  17. apne aas-paas jab bhi is tarah se do roti ke liye mashkat karte log dikhte hain to sach mein jee bhar aata hai... aapne bahut hi maarmik jewant chitran prastut kiya hai..aabhar

    उत्तर देंहटाएं
  18. हाथ में दो ठीकरे लिए गीत बिखेरते वतावरण में जिनमें सुर कच्चे हों, करुणा सच्ची होती है... ये दो ठीकरे, दो पैसे मिलने की खुशी और दो वक़्त की रोटी का दर्द है, दो पाट हैं पीसते हुए उस छोकरे को... बड़े भाई, ये छोकरा की Trilogy एक पारखी नज़र का सम्वाद है! अद्भुत!!

    उत्तर देंहटाएं
  19. Chhaokra kavita k teeno rup aaj dekhe.. marmsparshi kavitayein..

    उत्तर देंहटाएं
  20. ब्लॉग जगत में जहाँ लोगों के महबूब बिछड़ गए हों, या उनका खुदा रूठ गया हो, वहां आपकी छोकरा श्रृंखला सुखद बयार है| कविता की सामाजिक जिम्मेदारियों की ओर लोगों का ध्यान जाए| वे सिर्फ अपने टूटे सपनों, अपनी महत्वाकांक्षाओं का बोझ, या अपनी उदासी का पहाड़ लोगों पर न डाले, बल्कि एक जरूरी सामाजिक बदलाव की कोशिश करें, आपकी कविताएं इस सिलसिले में काफी महत्वपूर्ण हैं|

    छोकरा श्रृंखला के लिए बहुत बहुत धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  21. सुन्दर रचना.. दो रोटी का आसमान और चाय का समुन्दर .. बहुत खूब...

    उत्तर देंहटाएं
  22. यह वह संवेदना है जो कविता में आती है तो इस सडे गले तंत्र के प्रति वितृष्णा पैदा होती है कि बचपन रोटी की तलाश के लिये भटक रहा है।

    उत्तर देंहटाएं
  23. मन को बेचैन करती रचना !बेहद मर्मस्पर्शी ! आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  24. छोकरा तीन...पीड़ित बचपन का मार्मिक चित्रण। मन को छू गया।

    उत्तर देंहटाएं
  25. बहुत ही संवेदनशील रचना है ..इस तरह से लिखी है कि पूरा दृश्य चित्रित हो गया ....

    उत्तर देंहटाएं
  26. छोकरा-१, २, ३ कविता भारत के उस हिस्से की कविता है जहाँ रौशनी नहीं पहुंची है. यह दृश्य बहुत आम है लेकिन संवेदना विलक्षण. कविता ह्रदय को छूती नहीं है बल्कि बेधती है... हमारे आसपास ऐसे दृश्य प्रायः ही उभरते हैं लेकिन कहाँ झकझोर पाते हैं हमें... बढ़ते बाजारवाद ने जहाँ हमें असंवेदनशील बना दिया है.. यह कविता पीछे मुड़कर देखने के लिए प्रेरित करती है कि देखिये कौन पीछे छुट गया है.. काश यह छोकरा हमारे साथ भी चला होता..

    उत्तर देंहटाएं
  27. मार्मिक अभिव्यक्ति ...दिल को भा गयी
    कभी चलते -चलते पर भी दर्शन दें ...आपका स्वागत है

    उत्तर देंहटाएं
  28. बचपन का यह रूप ह्रदय को रुला देता है. एक गंभीर रचना. समाज से सवाल करती हुई . शुभकामना .

    उत्तर देंहटाएं
  29. राजेश जी... कितने गहरे भाव... कितनी गहरी रचना...
    बहुत खूब...

    उत्तर देंहटाएं
  30. आपने तो छोकरे का वास्तविक चित्रण कर डाला ! बहुत खूब !

    उत्तर देंहटाएं
  31. पांच लाख से भी जियादा लोग फायदा उठा चुके हैं
    प्यारे मालिक के ये दो नाम हैं जो कोई भी इनको सच्चे दिल से 100 बार पढेगा।
    मालिक उसको हर परेशानी से छुटकारा देगा और अपना सच्चा रास्ता
    दिखा कर रहेगा। वो दो नाम यह हैं।
    या हादी
    (ऐ सच्चा रास्ता दिखाने वाले)

    या रहीम
    (ऐ हर परेशानी में दया करने वाले)

    आइये हमारे ब्लॉग पर और पढ़िए एक छोटी सी पुस्तक
    {आप की अमानत आपकी सेवा में}
    इस पुस्तक को पढ़ कर
    पांच लाख से भी जियादा लोग
    फायदा उठा चुके हैं ब्लॉग का पता है aapkiamanat.blogspotcom

    उत्तर देंहटाएं
  32. यह कविता आपके संवेदनशील कवि हृदय का भी बोध कराती हैं।
    ...कविता अत्यंत प्रभावशाली है...मर्मस्पर्शी।

    उत्तर देंहटाएं
  33. "समस हिंदी" ब्लॉग की तरफ से सभी मित्रो और पाठको को
    "मेर्री क्रिसमस" की बहुत बहुत शुभकामनाये !

    ()”"”() ,*
    ( ‘o’ ) ,***
    =(,,)=(”‘)<-***
    (”"),,,(”") “**

    Roses 4 u…
    MERRY CHRISTMAS to U…

    मेरी नई पोस्ट पर आपका स्वागत है

    उत्तर देंहटाएं
  34. आपकी रचना वाकई तारीफ के काबिल है .

    * किसी ने मुझसे पूछा क्या बढ़ते हुए भ्रस्टाचार पर नियंत्रण लाया जा सकता है ?

    हाँ ! क्यों नहीं !

    कोई भी आदमी भ्रस्टाचारी क्यों बनता है? पहले इसके कारण को जानना पड़ेगा.

    सुख वैभव की परम इच्छा ही आदमी को कपट भ्रस्टाचार की ओर ले जाने का कारण है.

    इसमें भी एक अच्छी बात है.

    अमुक व्यक्ति को सुख पाने की इच्छा है ?

    सुख पाने कि इच्छा करना गलत नहीं.

    पर गलत यहाँ हो रहा है कि सुख क्या है उसकी अनुभूति क्या है वास्तव में वो व्यक्ति जान नहीं पाया.

    सुख की वास्विक अनुभूति उसे करा देने से, उस व्यक्ति के जीवन में, उसी तरह परिवर्तन आ सकता है. जैसे अंगुलिमाल और बाल्मीकि के जीवन में आया था.

    आज भी ठाकुर जी के पास, ऐसे अनगिनत अंगुलीमॉल हैं, जिन्होंने अपने अपराधी जीवन को, उनके प्रेम और स्नेह भरी दृष्टी पाकर, न केवल अच्छा बनाया, बल्कि वे आज अनेकोनेक व्यक्तियों के मंगल के लिए चल पा रहे हैं.

    उत्तर देंहटाएं
  35. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  36. Rajesh ji,
    Bahut hi prabhavshali aur sashakt kavita...bar bar padhne ka man hua.....

    उत्तर देंहटाएं
  37. आज ही यह छोकरा श्रंखला पढ़ी, और नीरज जी से शत प्रतिशत सहमत हूँ।
    ऐसा लिखने के लिए आपको बहुत आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  38. बहुत दिलसे लखा है ..भाव पूर्ण रचना आभार

    उत्तर देंहटाएं

गुलमोहर के फूल आपको कैसे लगे आप बता रहे हैं न....

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails