गुरुवार, 28 नवंबर 2013

अनपढ़ मन

                                                                                                फोटो : राजेश उत्‍साही
मैंने जो लिखा
वो तुमने पढ़ा नहीं,
तुमने जो पढ़ा
मैंने वो लिखा नहीं,
मन है कि अनपढ़ ही रहा
और अनपढ़ा ही रह गया...।
0 राजेश उत्‍साही

4 टिप्‍पणियां:

  1. जो अनपढ़ है उसे न पढ़े जाने का गम भी क्या सताएगा...यह तो पढ़े-लिखों के हिस्से में आता है

    उत्तर देंहटाएं
  2. सच कहती पंक्तियां .... बेहद गहन भाव

    उत्तर देंहटाएं
  3. sach hi to hai . anpadh jo hain...

    उत्तर देंहटाएं

गुलमोहर के फूल आपको कैसे लगे आप बता रहे हैं न....

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails