गुरुवार, 21 नवंबर 2013

परछाईंयां




                                                                                               फोटो : राजेश उत्‍साही
                            
परछाईंयां
आदमी से

कभी आगे
तो कभी पीछे चलती हैं
आदमी के गिरने से पहले
परछाईंयां गिरती हैं।
0 राजेश उत्‍साही
          

                                       

5 टिप्‍पणियां:

  1. परछाई तभी बनती है जब प्रकाश इर्द गिर्द हो...आदमी न रहे पर प्रकाश सदा है..

    उत्तर देंहटाएं
  2. आदमी के गिरने से पहले परछाईंया गिरती हैं .... बहुत सही

    उत्तर देंहटाएं
  3. काश आदमी "पहले" गिरती परछाइयों को देख संभल जाता! बहुत सुन्दर अवलोकन!!

    उत्तर देंहटाएं
  4. प्रिय ब्लागर
    आपको जानकर अति हर्ष होगा कि एक नये ब्लाग संकलक / रीडर का शुभारंभ किया गया है और उसमें आपका ब्लाग भी शामिल किया गया है । कृपया एक बार जांच लें कि आपका ब्लाग सही श्रेणी में है अथवा नही और यदि आपके एक से ज्यादा ब्लाग हैं तो अन्य ब्लाग्स के बारे में वेबसाइट पर जाकर सूचना दे सकते हैं

    welcome to Hindi blog reader

    उत्तर देंहटाएं

गुलमोहर के फूल आपको कैसे लगे आप बता रहे हैं न....

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails