सोमवार, 10 जून 2013

हमारे होने में



हमारे होने में 
किन लोगों का हाथ है 
और किनके होने में हमारा
यह 
या तो हम खुद जानते हैं 
या फिर खुदा
बशर्ते कि वह कहीं हो !
o राजेश उत्‍साही


3 टिप्‍पणियां:

  1. हमारे होने में किनका हाथ है यह भी हम जानते हैं और किनके होने में हमारा जरा भी हाथ नहीं है यह भी हम जानते हैं..अगर थोड़ा सा रुक कर देखें...खुदा तो बस साक्षी है..

    उत्तर देंहटाएं
  2. a khuda tu jaha bhi hai
    kahi bhi hai
    yakin hai
    ki tu kahi to hai

    उत्तर देंहटाएं
  3. हम भूल गए हैं रख के कहीं …


    http://bulletinofblog.blogspot.in/2013/08/blog-post_10.html

    उत्तर देंहटाएं

गुलमोहर के फूल आपको कैसे लगे आप बता रहे हैं न....

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails