शुक्रवार, 13 जनवरी 2012

स्‍वागत नए साल का



                                                                       फोटो : राजेश उत्‍साही 
पूछा मैंने
दोस्‍त से,
कैसे किया नए साल का
स्‍वागत ?

'बांधकर
कैलेंडर में
लटका दिया है
दीवार पर!'
वह बोली।

ठीक किया
अब रखना उसे
संभालकर,मैंने कहा।

सहेजना,जीना,
उसका हरेक दिन
कड़ी नजर रखना उन पर।

वरना
मौका मिलते ही
ति‍तलियों की तरह
गायब हो जाएंगे वे अनंत आकाश में
और तुम कहती
रह जाओगी
पता नहीं कहां चला गया नया साल
और
नए साल के दिन।
0 राजेश उत्‍साही

23 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत जतन से रखना , रेत बनते देर नहीं लगती

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. KAHA JI !
      13 DINO ME TO POORANA HO JATA HAI.
      UDAY TAMHANE
      BHOPAL.

      हटाएं
  2. काल (आपकी कविता में सन्दर्भत: इसे साल कहा गया है) को सहेजना, जीना और उस पर कड़ी नजर रखना--यह दर्शन है। दो राय नहीं कि ऐसा करने के बावजूद भी हमारे देखते-देखते तितलियों की तरह उड़ ही जाता है एक-एक दिन। यही जीवन है। नव्यता इसी से उपजती है।

    उत्तर देंहटाएं
  3. कमाल किया है आपने इस कविता में... जितनी आसानी से आपने साल गुजरने का ज़िक्र किया है, लगता है कविता उतनी जल्दी ही दिल में उतर गयी!! नहु-बहुत खूबसूरत!!

    उत्तर देंहटाएं
  4. KAAL KO KEWAL
    JEE SAKATE HAI.
    JEENA HI PADEGA.
    DOONIYA ME AGAR
    AAYE HAI TO
    PEENA HI PADEGA.
    UDAY TAMHANE.
    BHOPAL.

    उत्तर देंहटाएं
  5. ... बेहद प्रभावशाली अभिव्यक्ति है ।

    उत्तर देंहटाएं
  6. वक्त को कब कौन बाँध पाया है ... साल दर साल यूँ ही गुजारते जाते हैं ... अच्छी प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत खूब ... पर जितना भी संभाल लो ... वो एक एक दिन कर के उड़ ही जायगा ....

    उत्तर देंहटाएं
  8. राजेश जी की कविता बहुत कुछ कह रही है...

    जीवन में कुछ कर गुजर जाने के लिए समय पर कड़ा पहरा जरूरी है .

    बहुत अच्छा सन्देश !

    उत्तर देंहटाएं
  9. बिल्‍कुल सही कहा है ...बेहतरीन भाव संयोजन ।

    उत्तर देंहटाएं
  10. आपकी किसी पोस्ट की चर्चा है नयी पुरानी हलचल पर कल शनिवार 21/1/2012 को। कृपया पधारें और अपने अनमोल विचार ज़रूर दें।

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत सही कहा...
    सुन्दर प्रस्तुति...

    उत्तर देंहटाएं
  12. सुन्दर और बेहतरीन काव्य प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  13. बहुत सही कहा आपने.बढ़िया!

    उत्तर देंहटाएं
  14. वाह उत्साही जी, बहुत सुन्दर! साल मुबारक!

    उत्तर देंहटाएं
  15. बहुत ही अर्थपूर्ण कविता है उत्साही जी ! कितनी सहजता से आपने समय की कीमत के बारे में समझा दिया ! बहुत सुन्दर !

    उत्तर देंहटाएं
  16. आपका पोस्ट अच्छा लगा । मेरे नए पोस्ट "धर्मवीर भारती" पर आपका सादर आमंत्रण है । धन्यवाद ।

    उत्तर देंहटाएं
  17. वाह! बहुत सुन्दर और उत्साही प्रस्तुति.
    पढकर अच्छा लगा आपको.
    खूबसूरत प्रस्तुति के लिए आभार,
    मेरे ब्लॉग पर आईयेगा,राजेश जी.

    उत्तर देंहटाएं
  18. बहुत संदर प्रस्तुति । मेरे नए पोस्ट " डॉ.ध्रमवीर भारती" पर आपका इंतजार रहेगा । धन्यवाद ।

    उत्तर देंहटाएं
  19. आपके इस उत्‍कृष्‍ठ लेखन का आभार ...

    ।। गणतंत्र दिवस की शुभकामनाएं ।।

    उत्तर देंहटाएं
  20. aapko bhi gantantr ki anek shubh kaamnayen saras rachnaayon ke liye haardik badhaaee.
    Dr jaijairam anand
    Los angeles USA

    उत्तर देंहटाएं

गुलमोहर के फूल आपको कैसे लगे आप बता रहे हैं न....

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails