रविवार, 18 दिसंबर 2011

स्वेटर बनाम सपना

                                                                           फोटो : राजेश उत्‍साही 
बुनना
बेकार नहीं है चाहे
स्वेटर हो
या सपना
दोनों
जरूरत से उपजते हैं


बुने गए हों अगर
दिल और दिमाग से
तो बहुत काम आते हैं
जिंदगी भर


स्वेटर
सर्द वक्त के
लिए रखता है ऊष्‍मा
अपने में संजोकर


स्वेटर
किसी की
गर्म सांसों का अहसास-सा है


स्वेटर
रहता है
सालों साल साथ हमारे
अतीत की न जाने
कितनी यादों के एलबम की
तरह


होना
स्वेटर का
एक तसल्ली देता है
हरदम हमें


सपना या सपने
जब तक नहीं होते
साकार
रहते हैं साथ हमारे
भविष्य की घटनाओं की तरह


स्वेटर
की तरह सपनों की ऊष्मा
कम होती रहती है
धीरे-धीरे


स्वेटर
की तरह
सहेजते रहना
सपनों को
बनाता है जिंदगी को
कहीं अधिक आस्थावान
ऊष्मावान


इसलिए
बुनना
बेकार नहीं है
चाहे स्वेटर हो
या फिर सपना।

0 राजेश उत्‍साही 

21 टिप्‍पणियां:

  1. किन लफ़्ज़ो मे तारीफ़ करूँ ……कितना सुन्दर विवेचन किया है।

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुंदर बुनावट. निश्चित ही सार्थक है बुनना.

    उत्तर देंहटाएं
  3. स्वेटर को सपनों की तरह सहेजना सपनों को बनाता है जिंदगी को बनाता है अधिक आस्थावान और ऊष्मावान. बहुत सुंदर विवेचना प्रस्तुत की है. बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  4. स्वेटर और सपना - मैं दोनों को महसूस करने लगी , कभी राहत , कभी ज़रूरत , कभी बेचैनी , कभी उबाऊ - बेकार .

    उत्तर देंहटाएं
  5. रश्मि प्रभा... ने आपकी पोस्ट " स्वेटर बनाम सपना " पर एक टिप्पणी छोड़ी है:

    स्वेटर और सपना - मैं दोनों को महसूस करने लगी , कभी राहत , कभी ज़रूरत , कभी बेचैनी , कभी उबाऊ - बेकार .

    उत्तर देंहटाएं
  6. स्वेटर और सपनो का समन्वय बहत खूब

    उत्तर देंहटाएं
  7. कई रोज़ बाद आपको पढकर अच्छा लगा.. वो भी तब जब कि एक नया स्वेटर और एक नया सपना दोनों बुन रही हूं आज कल्.. या कहिये कि सीख रही हूं... ये रचना मेरे हि किसी छुपे सच को मेरे ही सामने लाती सी लगी...

    उत्तर देंहटाएं
  8. आजकल.. बुनना छूट रहा लगता है। बड़ी भागम भाग मची है। झट से मिल जाये का भाव है सभी के दिल में। फिर चाहे स्वेटर हो या सपना।
    सौ में 8-10 के जिस्म में दिखते हैं, घर की बुनी स्वेटर। लोग थिर नहीं हैं तो फिर कैसे बुन पायेंगे सपने भी! यह बुनावट की प्रेम कथा विस्मृत होने के कगार पर है। अच्छा किया जो कविता में सहेज लिया आपने।

    उत्तर देंहटाएं
  9. सचमुच बड़ी समानता है...स्वेटर और सपने में....अपने बुने हुए स्वेटर हों या सपने...उन्हें आकार लेता देखना...एक अनजानी ख़ुशी से भर देता है...

    उत्तर देंहटाएं
  10. RANGEEN SWETAR LOOBHATE HAI.
    RANGEEN SAPANO KI TARAH.
    UDAY TAMHANEY.
    BHOPAL.

    उत्तर देंहटाएं
  11. सपने की उपमा स्वेटर से ..सार्थक बिम्ब .. बुने दोनों ही जाते हैं ... बस ऊष्मा रहनी चाहिए ..सुन्दर प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  12. SWETAR ME KARLO CHAHE UDHED-BOON.
    PAR N KARO DIL-O-DIMAG ME UDHED-BOON.
    UDAY TAMHANEY.

    उत्तर देंहटाएं
  13. आपके पोस्ट पर आना सार्थक होता है । मेरे नए पोस्ट "खुशवंत सिंह" पर आपका इंतजार रहेगा । धन्यवाद ।

    उत्तर देंहटाएं
  14. सपनों के सहारे जीवन आसान हो जाता है ...
    श्रद्धा में सुरक्षा तो निहित है ही !
    शुभकामनाएं राजेश भाई !

    उत्तर देंहटाएं
  15. स्‍वेटर और सपना ...दोनो को आपके शब्‍दों ने
    एक बेहतरीन अभिव्‍यक्ति बना दिया ..आभार ।

    उत्तर देंहटाएं
  16. राजेश जी,..बहुत खूब क्या बात है,
    सपनो का स्वेटर बहुत सुंदर बुना,..बढ़िया प्रस्तुति,...

    काव्यान्जलि ...: महत्व .....

    उत्तर देंहटाएं
  17. सपने एमिन तो बस अपने एहसास ही जुड़ते हाँ पर स्वेटर में तो दूसरे का एहसास ... प्यार और निर्माण का सपना और भी क्या क्या जुड जाता है ... संभालना जरूरी है दोनों को ...

    उत्तर देंहटाएं
  18. SWETAR
    SAPANA
    SOOHANA LAGATA
    HAI
    UDAY TAMHANEY

    उत्तर देंहटाएं
  19. आपके पोस्ट पर आना सार्थक हुआ । बहुत ही अच्छी प्रस्तुति । मेर नए पोस्ट "उपेंद्र नाथ अश्क" पर आपकी सादर उपस्थिति प्रार्थनीय है । धन्यवाद ।

    उत्तर देंहटाएं
  20. अहसासों कि अच्छी बुनावट

    उत्तर देंहटाएं

गुलमोहर के फूल आपको कैसे लगे आप बता रहे हैं न....

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails