गुरुवार, 24 फ़रवरी 2011

खोया हुआ पेन


एक खास पेन
खो गया है
पता नहीं खास वह
क्‍यों है?

इसलिए क्‍योंकि पारकर था
या कि
दिया था किसी खास ने?
हां इतना पता है
कि एक याद है वह !

याद
कि किसी से इक्‍कीसवें बसंत
पर मिला उपहार

याद
कि परीक्षा में होकर पास
पाया होगा आर्शीवाद

याद
कि लिखा होगा उससे ही
पहला प्रणय निवेदन

याद
कि लिखा गया होगा उससे ही
जिन्‍दगी का खासमखास फैसला

याद
कि रहता होगा जेब में
दिल के पास
पेसमेकर की तरह

जो भी हो
है वह खास पेन
इससे कोई फर्क नहीं पड़ता
कि वह पारकर है
या पार किया हुआ
या कि दिया है किसी खास ने। 

इसलिए
मैरून कलर का वह पेन
जिस किसी को भी मिले
लौटाए सही सलामत
उसे खोने वाले को
ताकि बनी रहे
वह खास याद !

0 राजेश उत्‍साही

21 टिप्‍पणियां:

  1. पेन पर इतनी रोमांटिक कविता .. बहुत सुन्दर... कविता में प्रेम की परिपक्वता है.. कहीं भी भाषा और संरचना की दृष्टि से कविता छलक नहीं रही...

    उत्तर देंहटाएं
  2. पेन से जुड़ी याद ...बहुत ही सुन्‍दर प्रस्‍तुति ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. aapki khas yaad ko najar na lage..jarur milegee bhaiya..:)

    kya kahne hain aapke...! ek dum se PEN ko dil se laga liya aapne!! jarur nima bhabhi ne diya tha:D

    उत्तर देंहटाएं
  4. जो भी यादो से जुडा होगा उसका ऐसा ही भीना भीना अहसास होगा।

    उत्तर देंहटाएं
  5. दर्द पेन के नहीं यादों के खोने का है। यादों की निशानी के खोने का है।

    अच्छी कविता।

    उत्तर देंहटाएं
  6. पेन से जुड़े हर अहसास को करीने से संजोया है...

    उत्तर देंहटाएं
  7. आज पहली दफा गुलमोहर के फूलों के करीब आया, जनाब बहुत बेहतर लिखते हैं आप...

    उत्तर देंहटाएं
  8. अच्छी रही पेन(Pen) के माध्यम से यादों के पेन (Pain) की यात्रा.. लेकिन जो इतनी प्यारी वस्तु थी, वह खो कैसे गईं!!
    और बताते हैं कि उस पेन की निब सोने की होती थी! मेरे बेटे ने अभी तक सँजोकर रखा है अपने परदादा का वो पेन.. पारकर 51!

    उत्तर देंहटाएं
  9. इन यादों ने तो उस पेन को और भी मूल्यवान बना दिया है!!जल्द ही वो आपको मिल जाये यही कामना करते हैं!!

    उत्तर देंहटाएं
  10. इस टिप्पणी को एक ब्लॉग व्यवस्थापक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  11. जो भी हो
    है वह खास पेन
    इससे कोई फर्क नहीं पड़ता
    कि वह पारकर है
    या पर किया हुआ
    ........... है तो मैरून कलर का ही न ?
    हर हाल में आप रखकर भूल गए हैं दिल के पास!
    कविता में पेन का अच्छा प्रयोग।

    उत्तर देंहटाएं
  12. जो भी हो है वह खास पेन
    इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि
    पारकर है
    या पार किया हुआ
    ...पार किया हुआ के स्थान पर
    पारकर है या
    दिया था किसी खास ने..ही सही रहता।
    मेरे विचार से ..पार किया हुआ.. कविता के वज़न को कम कर रहा है।

    उत्तर देंहटाएं
  13. मित्रों आभार आप सबका कि आपने कविता पर अपनी प्रतिक्रिया दर्ज की ।*
    दो बातें । पहली तो यह कि यह पेन मेरा यानी कवि का नहीं था। पेन मेरे एक मित्र का खोया था। दूसरी बात कि कविता का रचनाकाल 2000 के आसपास का है।
    *
    देवेन्‍द्र भाई आप सही कह रहे हैं। पर किसी खास ने दिया था यह भी पक्‍का नहीं है। और पेन किसी खास का भी हो सकता है जिसे पार किया गया है। बहरहाल आपने इस पंक्ति पर ध्‍यान दिलाया तो मैं इसमें खास होने वाली पंक्ति भी जोड़े दे रहा हूं।

    उत्तर देंहटाएं
  14. साब जी,
    ये जो पेसमेकर की उपमा दी है ना!
    बस........ आनंद! आनंद! आनंद!
    आशीष
    ---
    लम्हा!!!

    उत्तर देंहटाएं
  15. sunder prastuti...........
    waise mai puri kosis karunga ki aapka pen aapko sahi salamt mil jaye.

    उत्तर देंहटाएं
  16. पेन... वो भी बहुत खास...
    पूरी दुआ करूँगीं की वो पेसमेकर वापस अपनी जगह पर आ जाए...
    मुझे मिला तो लौटा दूंगीं...

    उत्तर देंहटाएं
  17. बहुत सुन्दर विज्ञापन है खोया हुआ पेन पर ... पर आपने बहुत देर से डाला ... जो पेन साल २००० में खोया है वो अब वापस मिलने वाला नहीं है :)

    उत्तर देंहटाएं
  18. RAJESH JI,
    PEN KE BAHANE KAVITA KI HAI.
    YA
    KAVITA KE BAHANE PEN KI CHARCHA KI HAI.
    UDAY TAMHANEY.
    BHOPAL.
    9200184289

    उत्तर देंहटाएं

गुलमोहर के फूल आपको कैसे लगे आप बता रहे हैं न....

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails