शुक्रवार, 11 जून 2010

प्रेम के कुछ क्षण

जैसे
एक गिलहरी
अपने भोजन के बहाने
छुपाकर भूल जाती है तमाम बीज मिट्टी में
ताकि कड़े दिनों में आएं काम

मैं भूल
जाना चाहता हूं बोकर
प्रेम के कुछ क्षण
यहां-वहां

ताकि
उदास होने लगूं
जब इस नश्वर दुनिया से
तब
जी सकूं
उनके लिए।
0 राजेश उत्‍साही
(जून,2010 बंगलौर)

17 टिप्‍पणियां:

  1. सुन्दर व सशक्त भावबोध के साथ बेहतरीन प्रस्तुति...बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  2. उत्‍साही बेकार में मेहनत किए जा रहो हो। कोई आपके गुलमोहर तले तो आ ही नहीं रहा। जो आ रहे हैं वे बस फूल चुनकर ले जा रहे हैं । कोई कुछ बोलता काहे नहीं।

    उत्तर देंहटाएं
  3. मै भूल जाना चाहता हूँ
    बोकर प्रेम के कुछ----- दिल को गहरे से छू गये भाव बधाई इस सुन्दर कविता के लिये। वैसे प्रेम से बडा कुछ नही है अगर ये बो दिया तो जिन्दगी सफल है। शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  4. छोटी मगर बड़ी कविता.
    जब फुर्सत मिले, प्रेम के बीज बोते रहने चाहिए ...उदास दिनों में काम आते हैं.!..वाह!
    खुशी हुई आपको पढ़कर.

    उत्तर देंहटाएं
  5. rajesh ji ,kavita to sundar hai lekin mujhe yahaan ek ghatna yad aa rahi hai .ek bar ek aadmi ko kuch dha mila .usne logon ki nazar se bachne aur kuchh bhavishya ka khayaal kar us dhan ko zameen me daba diya aur bhool gayaa .par jaroorat ke vaqt vah dhoondhata hi raha use vah dhan fir kabhi nahi mila .isliye beejon ko kured kr dekhtebhi rahiye...shesh shubh

    उत्तर देंहटाएं
  6. @ उर्मि जी,कुछ लोग यही गलती करते हैं। बीजों को बारबार कुरेद कर देखते हैं। बीज जो अपने भ्रूण को विकसित कर रहा होता है, कुरेदने से नष्‍ट हो जाता है। किसान का काम है बीज बोना। बीज वह उस जमीन में बोता है जिस जमीन की उर्वरता पर उसे विश्‍वास होता है। अगर किसान हर बीज को बारबार कुरेद कर देखेगा तो बीज तो उगने से रहा और साथ ही जमीन का अपमान भी होगा।

    उत्तर देंहटाएं
  7. लगाकर प्यार के बीज...इसकी छाँव में ज़िन्दगी सुकून से गुजरेगी

    उत्तर देंहटाएं
  8. ताकि उदास होने लगूं
    जब इस नश्वर दुनिया से
    तब.....
    जी सकूँ
    उनके लिए ....

    सच्च कहा आपने .....शायद वे बोये बीज ही जीने का सबब बन जायें .......!!

    उत्तर देंहटाएं
  9. भगत सिंह ने बोई बंदूक की फसले.
    किसी कवि ने रोटियों के पेड़ की कल्पना की और शायद किसी ने रुपैये बोये.
    अपनी अपनी जगह सबका क बीज रोपित करना समय के अनुसार सार्थक था.पर प्रेम के बीज बोना तो सर्वकालीन सार्थक कर्म है. वो हृदय से, हृदय में बोया जाता है. फसल भी प्यार की ही लहलहाती है, जो बेशकीमती होने के कारण हमेशा मांग में रहती है.इसे तो प्रकृति,पशु,पक्षी,मानव सबको जरूरत होती है.तो डिमांड तो कम होने से रही.
    ना ये कर्म बुरा,ना व्यवसाय.
    जिसने किया नफे में रहा.
    कहीं कोई नुकसान नही.

    उत्तर देंहटाएं
  10. सर!! सबसे पहले बहुत बहुत धन्यवाद्!! मेरे ब्लॉग पे आने के लिए!!

    दूसरी बात ये की ये बहुत कम देखा मैंने की किसी ने कविताओं की गलती की और इंगित किया हो!! अधिकतर "वाह" जैसे शब्दलो का ही प्रयोग करते हैं.......और मैं भी :डी!! और सच कहूँ तो मुझे इसकी जरुरत है........मैं तो बस आप जैसो के ब्लोग्स के चक्कर लगाते लगाते अपने कुछ शब्दों को जड़ने की कोशिश करने लगा...........

    तीसरी बात........जो आपके कविता के सन्दर्भ में है, और एक दम सटीक बैठती है........आपने अपना प्यार ही बोया है..........मेरे गलतियों को बता कर......साथ ही उम्मीद करूँगा, ऐसे ही आपका आशीर्वाद बराबर मिले........

    वैसे मैं आपको बराबर बताता रहूँगा ताकि मेरी गलतियाँ सुधरे........:)

    उत्तर देंहटाएं
  11. जी बिलकुल! प्रेम कड़े दिनों में बहुत काम आता है ! यह संजीवनी है !सुंदर स्वीकारोक्ति !

    उत्तर देंहटाएं
  12. राजेश जी ,

    आज आपकी बहुत सी कविताएँ पढ़ीं....कविता की परिभाषा बहुत सुन्दर है और ये प्रेम के बीज भी...आभार

    उत्तर देंहटाएं
  13. bahut hi sundar kavita ! kitna acchha hota gar hum aisa kar pate ... kash ...

    उत्तर देंहटाएं
  14. बहुत रोचक और सुन्दर अंदाज में लिखी गई रचना .....आभार

    उत्तर देंहटाएं
  15. sach prem kabhi nishfal nahi jaata...
    koi insaan jitna kisi se bewajah nafrat karta hai kash wah bewajah kisi se prem karta to kitna achha hota!!

    उत्तर देंहटाएं
  16. PREM KE BIJ PAR NAPHART KA KICHAD PADE TO BHI PREM KE HI PHUL LAGENGE! @ UDAY TAMHANEY.BHOPAL.

    उत्तर देंहटाएं

गुलमोहर के फूल आपको कैसे लगे आप बता रहे हैं न....

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails