बुधवार, 5 जुलाई 2017

उम्‍मीद

उम्‍मीद
साथ हो तो
परछाईं भी
बगलगीर होती है

वरना
भंवर में छोड़कर जाने
वालों की क्‍या कमी है।

0 राजेश उत्‍साही

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

गुलमोहर के फूल आपको कैसे लगे आप बता रहे हैं न....

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails