शनिवार, 11 जून 2011

दो : इतनी जल्‍दी नहीं मरूंगा

मरूंगा
मैं एक दिन
पर इतनी जल्‍दी नहीं
तसल्‍ली रखें

रह आया
मैं जिन्‍दा जब
पढ़ता था पांचवीं
सबलगढ़ जिला मुरैना में

अक्‍टूबर ,1969
की एक दोपहरी में
बारिश भर
बिस्‍तर पेटी में कैद रहे अलसाए
कपड़ों को भा रही थी धूप
वे फैले थे आंगन में

पिताजी काम पर गए थे
मां बीस गज की दूरी पर
नल से गिरते
कल कल करते जल 
के नीचे धो रही थीं
कपड़े

घर सुनसान था
केवल एक गौरेया 
यहां से वहां फुदक रही थी
खाली थी बिस्‍तर पेटी
टीन की बनी पेटी
हमेशा उकसाती रही थी मुझे
अपने अन्‍दर सोने के लिए

पाकर मौका यह
जा लेटा था मैं उसमें
करवट अदल बदलकर
अहसास भर रहा था अपने में
बिस्‍तर होने का
तभी
भरभराकर गिरा था
पेटी का ढक्‍कन
सांकल ने थाम लिया था कुन्‍दों को
कैद हो गए थे
मैं और मेरे अहसास
बिस्‍तर पेटी में

घबराकर
हाथ-पांव मारे थे
घुटने लगा था दम
आवाज अटक गई थी हलक में
बन्‍द होने लगी थीं आंखें
शरीर होने लगा था निढाल
समेटकर ताकत सारी
चिल्‍लाया था मैं जोर से
अम्‍मां 
बस एक बार

डोर
टूट रही थी जीवन की
कोस रहा था उस मनहूस घड़ी को
जब सोचा था करने को यह प्रयोग

तभी खुला था जैसे आसमान 
सामने अम्‍मां खड़ी थीं
लथपथ गीले कपड़ों में

वे अनंत से आती
मेरी चीख सुनकर दौड़ी चलीं आईं थीं
बीस गज दूर से 
वे गईं थीं सप्‍पने में
जहां रखा होता था पानी का ड्रम
कहीं मैं उसमें तो नहीं
डूब गया
और फिर अचानक ही उनकी निगाह
पड़ी थी बंद बिस्‍तर पेटी पर 

जिसमें
मैं लेटा था
पसीने से तरबतर
लिए लाल से पीला होता चेहरा

तो बचा था
एक बार फिर
होते-होते मुर्दा
तसल्‍ली रखें
इतनी जल्‍दी (?)
नहीं मरूंगा मैं ।

0 राजेश उत्‍साही

25 टिप्‍पणियां:

  1. बच्चों की जिज्ञासा की आदत ... और इसी आदत के चलते आप बक्से में बंद हो गए ... रोचक प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  2. रचना में भावाभिव्यक्ति बहुत अच्छी है.. ...

    उत्तर देंहटाएं
  3. जाको राखे सांइयां....
    बहुत सुंदर भावाभिव्यक्ति.....

    उत्तर देंहटाएं
  4. किसी भाव को कविता में ढ़ालना एक कवि ही कर सकता है।

    उत्तर देंहटाएं
  5. is rachna kee vilakshanta akathniye hai ... maa kahin ho duayen dhaal banti rahengi

    उत्तर देंहटाएं
  6. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति भी कल के चर्चा मंच का आकर्षण बनी है
    कल (13-6-2011) के चर्चा मंच पर अपनी पोस्ट
    देखियेगा और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकर
    अवगत कराइयेगा और हमारा हौसला बढाइयेगा।

    http://charchamanch.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  7. अनूठा प्रयोग लग रहा है यह शीर्षक। अपार संभावनायें हैं लिखते रहने की। ...वाह!

    उत्तर देंहटाएं
  8. khoobsurat hai bhawanaon ki abhivyakti
    per mai us vedna se ek baar saham gaya hoon jo khud ko bakse me kaid paakar hoti hai....

    उत्तर देंहटाएं
  9. मुझे भरोसा है .....शुभकामनायें आपको :-))

    उत्तर देंहटाएं
  10. माँ का दिल ही ऐसा होता है....आगत की खबर हो जाती है..
    माँ के जिक्र से ये शेर याद आ गया

    "मैं रोया परदेस में, भीगा माँ का प्यार
    दुख ने दुख से बात की,बिन चिट्ठी बिन तार.

    अलग से प्रयोग के साथ...सार्थक अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत सुन्दर भावाभिव्यक्ति...

    उत्तर देंहटाएं
  12. भावमय करते शब्‍दों के साथ बेहतरीन प्रस्‍तुति ।

    उत्तर देंहटाएं
  13. bahut hi gehre bahv diye hain aapne rachna main!
    saar -garbhit prastuti!

    उत्तर देंहटाएं
  14. bahut khoobsurati se ek ghatna ka shabd chitra kheench diya aapne...

    उत्तर देंहटाएं
  15. bhaiya aisa ab n karana. tum bahut keemati jeev ho. aise log ab kahan bach gaye hain jo jitana dekhate hain, use hee sach manate hain aur usee par pratikriya dete hain. vah bhee bina is dar ke ki koi khush hoga ya naraj.Rajesh, mujhe lagata hai ki himmat se sach bolane valon kee bahut jaroorat hai aur tum usee vilupt hoti prajati ke sadasy ho. isliye yar, ab aisee koi galati mat karana. bahut jio, meree shubhkamanayen.

    उत्तर देंहटाएं
  16. rajesh ji aap shtaayu hon meri bhgvan se prarthna hai pr hoi soi jo ram rch rakhaa sb kuchh vidhan nishchit hai aur pnch ttv ka visrjn bhi nishchit hai eeshvr ki jitni kripa bni rhe us ka prsad v prem hai hmare upr
    mritu ka sundr niroopn kiya mritu ka ahasaas hi vykti ka aatm sakshat kar tk le jata hai
    bdhai

    उत्तर देंहटाएं
  17. अगर ठीक से याद है तो पहले भी पढ़ चुका हूं और तब भी कह चुका हूं कि तुम नहीं मरोगे, बस ठान लो एक बार। भौतिक मृत्यु से अलग हटकर देखो, मरना कहां है। मरते तो वे हैं जो देह भर होते हैं। जीवन एक सातत्य में है, वहां मृत्यु आती ही नहीं, पर उस सातत्य को समझना होगा। तुम समझ सकते हो।

    उत्तर देंहटाएं
  18. ओह ! पेटी बंद होने के साथ रचना पढने वाला धक रह जाए, इससे अच्छी भाव पूर्ण प्रस्तुति क्या होगी । मां हर मुसीबत से बचाती है । सब पर मां का साया सदा बना रहे ।

    बहुत ही सरल, सहज भावमय कविता के लिये साधुवाद ।

    उत्तर देंहटाएं
  19. बहुत मर्मस्पर्शी भावाभिव्यक्ति.....

    उत्तर देंहटाएं
  20. ओह... बेहद भयावह था.... पेटी में बंद हो जाना.... पढते-पढते लगा कि दम घुटने लगा हो.... मगर माँ तो माँ होती है..... उसकी ममत्व के आगे सब शैतानी फेल हो जाती है.... वैसे सच्ची आपबीती है तो आप बहुत भाग्यशाली है और ऐसे ही सदा रहे......

    उत्तर देंहटाएं
  21. मध्य प्रदेश और उसमे भी खंडवा ,इटारसी ,होशंगाबाद अदि के लोग अपनत्व को खुशबू अलग से आरही है |
    मेरे सामने छोटा सा रेलवे स्टेशन , पत्थर के कोयलों से जलती सिगड़ी ,हल्के नीले रंग के रेलवे के क्वार्टर सरसराते से निकले जा रहे है यह कविता पढ़कर |

    उत्तर देंहटाएं
  22. तय है

    लेकिन इतनी जल्दी है क्या


    शुभकामनाएँ

    उत्तर देंहटाएं
  23. झुरझुरी दौड़ गयी शरीर में....

    अम्मा का तारक बन आना ,भावुक कर गया....

    उत्तर देंहटाएं

गुलमोहर के फूल आपको कैसे लगे आप बता रहे हैं न....

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails