शुक्रवार, 27 अगस्त 2010

लिखकर एक कविता

आप जानते हैं,इन दिनों मैं गुलमोहर पर नीमा के बहाने  एक लम्बी कविता लिख रहा हूं। इस कविता की तीन किस्तें आ चुकी हैं। चौथी अभी रची जा रही है। इस बीच आपको भी लग रहा होगा और मुझे भी लग रहा है कि चुप्पी कुछ ज्यादा ही लंबी हो गई है। इस चुप्पी को तोड़ने के लिए मैं अपनी एक  कविता यहां प्रस्तुत कर रहा हूं। यह गुलमोहर पर पहली बार आ रही है। हां ई-पत्रिका गर्भनाल के जुलाई अंक में यह प्रकाशित हो चुकी है। संभव है आप में से कुछ ने इसे वहां  पढ़ लिया होगा। अगर आपको यह कविता अच्छी लगी होगी तो दुबारा पढ़ने में भी आप प्रसन्नता महसूस करेंगे।   * राजेश उत्साही

लिखकर
एक कविता महसूस
करता हूं मैं
जैसे कई रातों की उनींदी आंखें
दिन-दिन भर सो उठती हैं तरोताजा होकर

एक
कविता लिखकर
महसूस करता हूं मैं
जैसे कोई गर्भणी सफल प्रसव के बाद
मातृत्व के उल्लास से
भर उठती है

जैसे
एक पिता
अपने नवजात शिशु को दुलारकर
भूल जाता है सृष्टि की नश्वरता

महसूस
करता हूं मैं
लिखकर एक कविता

जैसे
एक मेहनतकश भर दोपहरी में
रोटी पर रखकर प्याज
नीम तले
करता है ब्यालू
पीता है ओक से
लोटा भर पानी
और निकाल फेंकता है
सारी थकान
लेकर एक लम्बी डकार

लिखकर
महसूस करता हूं मैं
एक कविता

जैसे
घूमते हुए चाक पर
गीली मिट्टी से गढ़कर ठण्डा पानी
रोमांचित हो उठता है उसका सृजनकार

कुछ कुछ वैसा ही
महसूस करता हूं मैं
लिखकर
एक कविता।
* राजेश उत्साही

31 टिप्‍पणियां:

  1. "जैसे कोई पंछी पहली बार खोले,
    अपने पंखो को आकाश उड़ते हुए,
    महसूस करता है "

    कुछ कुछ वैसा ही
    महसूस करता हूं मैं
    लिखकर
    एक कविता। में ........
    http://oshotheone.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  2. "जैसे कोई पंछी पहली बार खोले,
    अपने पंखो को आकाश में उड़ते हुए,
    महसूस करता है "

    कुछ कुछ वैसा ही
    महसूस करता हूं मैं
    लिखकर
    एक कविता। में ........
    http://oshotheone.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  3. अच्छी कविया है .
    http://oshotheone.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  4. kuchh kuchh waise hi main bhi mahsus karta hoon..........bhaiya......!! sach me aapne ham sabki baat kah di........bas hamare pass shabd nahi the.......aur aapke pass shabdo ki thanti hai.........:)

    god bless!!

    उत्तर देंहटाएं
  5. हम त हमेसा अपने दोस्त को कहते हैं कि कल सारा रात प्रसव बेदना से तड़पते रहे हैं अऊर तब जाकर जन्म हुआ है ई कबिता का... उनको भी मालूम है ई बात, अऊर एक बार हम अपना पोस्ट पर भी लिखे थे... आज आप जब ई लिख दिये त हमरा सोचना सार्थक हो गया... खाली कबिता का बात काहे करते हैं... हम त महसूस किए हैं कि मन अऊर लगन से कोनो सर्जनात्मक काम ओही आनंद देता है जिसका आप अपना ई कबिता में जिकिर किए हैं… अऊर आपका बात हम सअमझ सकते हैं, लग रहा है जईसे आप हमरे बिचार को अभिव्यक्ति दे दिए हैं!!

    उत्तर देंहटाएं
  6. हाँ क्यों नहीं, अगर हम अपने भावों को शब्दों मे समेट पाते है तो अपार खूशी मिलती ही है ।

    उत्तर देंहटाएं
  7. खूबसूरती से समेटे हुए भाव ।

    उत्तर देंहटाएं
  8. रचनाकार का रचना गौरव मुखर हो उठा!!
    भावपूर्ण अभिव्यक्ति।
    पढाने का आभार!

    उत्तर देंहटाएं
  9. यही तो कविता का महत्त्व है कि जो भी अन्दर होता है सब बाहर ले आती है और फिर इंसान को एक बार फिर उडान भरने मे सहायक हो जाती है ।

    उत्तर देंहटाएं
  10. खूबसूरत एहसास ...कविता रचने के बाद के सत्य को बखूबी लिखा है ..

    उत्तर देंहटाएं
  11. क्या बात है उत्साही जी .... वैसे तो आप ऐसी ही रचना की रचते हैं जो आपको ही नही हमको भी ऐसा ही एहसास कराती है ... बहुत सुंदर कल्पना है आपकी ...

    उत्तर देंहटाएं
  12. उत्साही जी सुझाव देने के लिए बहुत-बहुत धन्यवाद,
    जब से अकेला कलम वजूद में आया तब से यह विचार मेरे मन में उथल पुथल मचाये हुए है की "अकेला" ठीक रहेगा या फिर "अकेली", मेरे कुछ स्नेही स्वजनों ने कहा शीर्षक कुछ ऐसा होना चाहिए जो भीड़ से अलग हो, मुझे भी लगा हाँ सही बात है भीड़ में अलग दिखने के लिए कुछ तो उल्टा करना पड़ेगा,
    मैंने नामकरण तो कर दिया पर फिर भी मैं खुद भी इस शीर्षक को स्वीकार करने में असहजता महसूस कर रहा हूँ, और इस मुद्दे का हल ये निकला की उद्देश्य शीर्षक नहीं मुख्य उद्देश्य तो अपने विचारों को उजागर करना है और इस तरह यह मुद्दा हासिये पर चला गया, आज फिर यह मुद्दा उठा है तो अब इसको हल करने के लिए आप सभी का सहयोग आपेक्षित है।
    कृपया अपने बहुमूल्य सुझाव दें।

    उत्तर देंहटाएं
  13. ...जैसे कई रातों की उनींदी आँखें दिन-दिन भर सो उठती हैं तरोताजा होकर..
    ..कमाल की पंक्ति और कवि कर्म के दर्द की अभिव्यक्ति।

    उत्तर देंहटाएं
  14. बाऊ जी,
    बहुत अच्छे!
    सृजन सुख की अनुभूति को क्या पिरोया है आपने और एक खूबसूरत सृजन भी कर दिया!
    आशीष
    --
    अब मैं ट्विटर पे भी!
    https://twitter.com/professorashish

    उत्तर देंहटाएं
  15. .
    गहेन चिंतन को दर्शाती , इस कविता के सृजन के लिए आपको बधाई। निमो भाभी आपकी प्रेरणा हैं , इसलिए उनको भी बधाई।
    .

    उत्तर देंहटाएं
  16. आदरणीय सर, आपने अपनी इस कविता में तो कविता की पू्री रचना प्रक्रिया बहुत बेहतर ढंग से प्रस्तुत किया है। इस चिन्तनपूर्ण कविता के लिये हार्दिक बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  17. कविता में जिन बिम्बों का प्रयोग किया है वे गहरा असर छोड़ते हैं.इस रचना के लिए मेरी बधाई स्वीकार करें.

    उत्तर देंहटाएं
  18. वाह राजेश जी वाह...अविस्मर्णीय उपमाएं दी हैं आपने...अद्भुत रचना...बधाई स्वीकारें...
    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  19. aapke blog par pahli baar aana hua,main jyada kuch kahne layak nahi hoon,main chota hoon,koshish karta hoon likhne ki nadaanummidien.blogspot.com ki taraf se agr samay mile to jarur padhiyega,,,,,,,,
    BHARAT SINGH CHARAN

    उत्तर देंहटाएं
  20. aadarniy rajesh ji,aapka aadesh hi kahunga ki aapne mere blog par apni amulya raay vyakt ki or kaha ki koi samaj se sambandhit rachna likhne pr jyada dhyan doon....
    shayad aapne dhyaan nahi diya mgr mere usi blog pr anya 2 rachnaye isi vishay pr h,,,fir kabhi samay nikal kar jarur aaiyega,,,,,or bhi likhne ki koshish karunga,,,tb tk aapke margdarshan ka prarthi BHARAT SINGH CHARAN nadaanummidien.blogspot.com ki taraf se

    उत्तर देंहटाएं
  21. प्रभावी अभिव्‍यक्ति ऐसी कि रचने की महसूसियत, पढ़ते हुए भी बनी रह रही है.

    उत्तर देंहटाएं
  22. Utsahi ji pranam,
    Arun roy ke blog par apki sargarbhit tippaniyon ke marfat apse awagat hua hun.Sach kahta hun hindi blog jagat,vishesh kar kavita ki arajakata,ko door kiya hi jana chahiye.Aapki 'prem ke chhan' kavita achhi lagi.

    उत्तर देंहटाएं
  23. Bilkul sach kaha Rajesh ji... na jane kitna santosh milta hai likhne ke baad... Bohot-bohot dhanyawaad...

    उत्तर देंहटाएं
  24. उफ़ मैं देर कर गया.. ऐसी ही एक कविता मेरी अधूरी लिखी पड़ी है.. कंटेंट काफी कुछ यही है बस कहने का अंदाज़ और है.. :) यहाँ आने में भी देर हुई, सुन्दर कविता पढ़ने में भी.. :) सॉरी ना..

    उत्तर देंहटाएं
  25. अद्भुत प्रयास ..बहुत बहुत बधाई ...
    स्वागत के साथ vijayanama.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  26. अच्छी पंक्तिया ........

    मेरे ब्लॉग कि संभवतया अंतिम पोस्ट, अपनी राय जरुर दे :-
    http://thodamuskurakardekho.blogspot.com/2010/09/blog-post_15.html
    कृपया विजेट पोल में अपनी राय अवश्य दे ...
    .

    उत्तर देंहटाएं

गुलमोहर के फूल आपको कैसे लगे आप बता रहे हैं न....

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails